Big NewsCrime & AccidentsPatnaव्यंग!

इन दो जगहों पर ‘सु’ के शासन को मानों सुनाई ही नही दे रहा

अपराधी पिस्टल सटाकर पूछते हैं ?? अब तेरा क्या होगा कालिया.

पटना से सटे नौबतपुर और बिहटा को मानों बुरी नजर लगी है। यहाँ अपराधी किसी भी क्षण किसी की कनपटी पर पिस्टल सटाकर पूछते हैं ?? अब तेरा क्या होगा कालिया..!!  ‘मैंने आपका नमक खाया है सरकार’ का डायलॉग पूरा होने के पूर्व एक आवाज आती है: ‘ अब गोली खा।’
सोनू मिश्रा न्यूज़ बिहार बिहटा

रोज़ भगदड़ होती है। लोग बेहवास भागते हैं। पुलिस लोगों से ज्यादा तेज भागती है। कुछ देर के बाद वही पुलिस लौटकर घटना-स्थल पर आती है। अधिकारियों और नेताओं का जमावड़ा होता है। घड़ियाली आसूं और फर्जी प्रशासनिक सख्ती का ड्रामा चलता है। लोग जमा होकर आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन करते हैं। बाजार बंद होता है। पुलिस कड़ी कार्रवाई का वादा करती है। आश्वासनों के बाद बंदी टूटती है। चौक-चौराहों पर दो-चार दिनों तक पुलिसिया चहलकदमी बढ़ती है। हमेशा की तरह इस घटना को लोग भूल जाते हैं। पुलिसिया चौकसी शिथिल होती है।

“कभी कोई सिनेमा घर का मालिक मारा जाता है, तो कभी बड़ा व्यपारी। इसी बीच किसी दिन अगर बिहटा और नौबतपुर में शांति देखने को मिलती है तो प्रतीत होता है कि आज शायद किसी ने अपनी जान बचाने के लिए फ़िरौती दे दी है।

सुशासन की डंका जोड़ शोर से बज रही है। वहीं इन दो जगहों पर ‘सु’ के शासन को मानों सुनाई ही नही दे रहा।”

प्रतीक्षा में बैठे अपराधी टारगेट नंबर दो की ओर मुड़ते हैं। फिर एक दिन बाजार के किसी कोने से आवाज आती है- ‘धड़ाक’।

 

हमारे जैसे लोग लिखते हैं ‘नौबतपुर में सरेआम एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या। अपराधी फरार।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close