Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatna

पिछड़े और अतिपिछड़ों के बीच घूमती रही है यह सीट….

मधुबनी |

झंझारपुर लोकसभा सीट पिछड़े और अतिपिछड़ों की राजनीति के बीच घूमती रही है। 1972 में मधुबनी से कटकर झंझारपुर लोकसभा सीट के रूप में अस्तित्व में आया। 1972 से 2014 तक हुए 12 चुनावों में दस बार इस सीट का प्रतिनिधित्व पिछड़ा या अतिपिछड़ा वर्ग के सांसदों ने ही किया है। पार्टी कोई भी हो, लहर कैसी भी हो मगर उम्मीदवारों के चयन में कोई भी पार्टी इस फैक्टर को दरकिनार नहीं कर सकती।पहली बार 1972 में यहां से पंडित जगन्नाथ मिश्र  विजयी हुए। फिर 1977 की आंधी आई और धनिकलाल मंडल जीत गए। उनकी जीत 1980 के चुनाव में भी बरकरार रही। इंदिरा गांधी की हत्या के बाद जो देश में सहानुभूति की लहर चली उसमें धनिकलाल मंडल को डॉ. गौरी शंकर राजहंस से हार का सामना करना पड़ा। 1984 के बाद से इस सीट पर जीत पिछड़ा या अतिपिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों के खाते में ही दर्ज हुई। 1989 से 1998 के बाद इस सीट पर देवेंद्र यादव का उदय हुआ। जनता दल के टिकट पर उन्होंने जीत की हैट्रिक बनाई।

डेढ़ दशक तक देवेन्द्र प्रसाद के ईद-गिर्द घूमती रही राजनीति 

1989 में पहली बार देवेन्द्र प्रसाद यादव यहां से जनता दल के टिकट से चुनाव जीते। उसके बाद से लगभग डेढ़ दशक तक झंझारपुर की राजनीति उनके ईद-गिर्द घूमती रही। 1989,1991 और 1994 में लगातार तीन बार देवेन्द्र यादव ने जीत हासिल की। 1998 में राजद के सुरेन्द्र यादव ने बाजी मारी जबकि उसके बाद फिर लगातार 1999 और 2004 में  देवेन्द्र प्रसाद यादव राजद के टिकट पर चुनाव जीत गए।

2014 में पहली बार जीती भाजपा

2014 में यहां पहली बार बीजेपी ने पताका फरायी। 2014 में त्रिकोणीय संघर्ष हुआ। वीरेंद्र चौधरी के लिए जीत की राह आसान हुई। उन्होंने 3, 35,481 वोट लाए और राजद के प्रत्याशी मंगनी लाल मंडल को 55,408 वोट से हराया। वहीं तीसरे स्थान पर रहे देवेंद्र यादव को भी 1,83,591 वोट मिले। चौधरी को कुल मतों का 35.64 प्रतिशत वोट मिला। वहीं राजद प्रत्याशी मंगनी लाल मंडल को 280073 मत मिला, जो कुल मतों का 29.75 प्रतिशत था। देवेंद्र यादव को 183591 वोट मिले, जो कुल मतों का 19.5 प्रतिशत वोट था।

वर्तमान सांसद : वीरेंद्र कुमार चौधरी
1974 के आंदोलन के जरिए राजनीति में किया प्रवेश 
सांसद वीरेन्द्र कुमार चौधरी का जन्म सामान्य परिवार में मधुबनी के चौरामहरैल में मार्च 1953 में हुआ। उन्होंने 1974 के छात्र आंदोलन के जरिए राजनीति में प्रवेश किया। 2004 में बिहार विधान परिषद के सदस्य चुने गये। 2014 में बीजेपी के टिकट पर झंझारपुर से सांसद चुने गए। 2014 में राजद प्रत्याशी मंगनी लाल मंडल को  हराया।
कुल मतदाता 
1824987
मतदान केंद्र
1921
महिला मतदाता
868552
74 – थर्ड जेंडर
कौन जीते   कौन हारे
2014

जीते : वीरेन्द कु. चौधरी, बीजेपी   335481
हारे : मंगनी लाल मंडल, राजद  280073
2009
जीते: मंगनी लाल मंडल, जदयू  265175
हारे : देवेंद्र यादव, राजद ,1,92,466
2004
जीते : देवेंद्र यादव, राजद 323400
हारे : डॉ. जगन्नाथ मिश्र, जदयू 310565
1999
जीते: देवेंद्र प्रसाद यादव, जदयू      375852
हारे: सुरेंद्र प्रसाद यादव, राजद,   248038 ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close