ArariaArwalAshmithaAurangabadBankaBegusaraiBETIYABhagalpurBhakti & DevotionalBhojpurBrandBiharBreaking NewsBureaucracy

DGP ने सख्त कार्रवाई लेने की चेतावनी दे डाली है। वहीँ, 400 ईमानदार पुलिस कर्मियों को सम्मानित करने का ऐलान भी किया

सोनू मिश्रा ब्यूरो हेड पटना न्यूज़ बिहार

बिहार में दागी इंस्पेक्टरों को थानेदारी से हटाने का मसला तूल पकड़ता जा रहा है। सरकार के इस निर्णय का विरोध भी आरंभ हो चुका है। Bihar Police Association ने निर्णय का विरोध किया है तो कुछ पुलिस कर्मियों ने इस निर्णय के खिलाफ facebook का मदद लेना आरंभ कर दिया है। ऐसे पुलिस कर्मियों के खिलाफ DGP ने सख्त कार्रवाई लेने की चेतावनी दे डाली है। वहीँ, 400 ईमानदार पुलिस कर्मियों को सम्मानित करने का ऐलान भी किया है। बिहार सरकार के इस निर्णय के बाद पुलिस मुख्यालय ने दागी 396 इंस्पेक्टरों को थानेदारी से हटा दिया है, जिसको लेकर पुलिस कर्मियों में बहुत ज्यादा आक्रोश है। इसके खिलाफ Bihar Police Association ने नाराजगी भी जाहिर कर दिया है। लेकिन बिहार के DGP ने ऐसी नाराजगी जाहिर करनेवालों पर कड़ी कार्रवाई लेने के संकेत दिए हैं।DGP गुप्तेश्वर पाण्डेय ने बताया कि दागी पुलिसकर्मी को थानेदारी से हटाने का निर्णय हमारा नहीं बल्कि सरकार का है। कुछ व्यक्ति social media पर भी निर्णय के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। हम उन्हें बताना चाहते हैं कि वो कितने पाक साफ़ हैं हम इसकी भी जांच करवा देंगे। आपको बता दें कि facebook पर इंस्पेक्टर धर्मेंद्र कुमार ने पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई करने को लेकर एक emotional post लिखा है, ,जिसमें उन्होंने कहा है कि 25 वर्ष तक अपनी सेवा देने के बाद अब विभाग हमारे साथ नाइंसाफी कर रहा है। उम्र के इस पड़ाव में उनके इज़्ज़त को उछाला जा रहा है। पुलिसकर्मी अपने कार्यों को छोड़कर पदाधिकारियों के निर्देश के मुताबिक कार्य करता है। लेकिन गलत आरोपों के कारण उसे दागी बताया जा रहा है। बिहार पुलिस का रीढ़ यानि थानाध्यक्षों का आज ‘चीर-हरण’हो रहा है।हालांकि, DGP ने बताया कि यदि किसी भी पुलिसकर्मी को लगता है कि उसके खिलाफ गलत कार्रवाई लिया गया है तो पुलिस मुख्यालय में आवेदन दे सकता है। प्रत्येक शुक्रवार को ऐसे पुलिसकर्मियों से मुलाक़ात करेंगे तथा उनके खिलाफ हुए कार्रवाई की दुबारा जांच करवा देंगे। उन्होंने कहा कि वो नहीं चाहते हैं कि किसी भी निर्दोष पुलिसकर्मी पर किसी भी तरह का एक्शन हो। लेकिन जो पुलिसकर्मी माफियागिरी करेंगे, शराब बालू के गैर-कानूनी धंधे में लिप्त रहेंगे, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। DGP ने ये भी ऐलान किया है कि कार्य करनेवाले 400 पुलिसकर्मियों को मुख्यालय सम्मानित भी करेगी। DGP ने बताया है कि देश में बिहार ही एकलौता प्रदेश है जहाँ अप-राधियों को पकड़ने के बाद राजनीतिक पैरवी नहीं चलती। इतनी स्वतंत्रता के बाद भी यदि हर लोग काम नहीं कर पा रहे हैं तो ये हमारे लिए चिंता की बात है। बिहार में बच्चा चोरी के नाम पर हो रही mob lynching पर भी DGP ने चिंता जाहिर किया। उन्होंने कहा कि बिहार में एक भी घटना बच्चा चोरी की नहीं हुई है। लोग अपवाह में आकर घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। मैं उन लोगों से अपील करूंगा की वो अपवाह में नहीं आएं। यदि ऐसी घटनाओं में लोग सम्मिलित होंगे तो उनपर ह-त्या का मामला चलेगा। बहुत सारे single मामलों में 22 व्यक्तियों को गिर-फ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।वहीँ, जमानत से छूटकर आये अप-राधियों को भी DGP ने चेतावनी दिया है कि यदि ऐसे लोग अप-राध की घटना में दोबारा संलिप्त पाए जाते हैं तो पुलिस उनका जमानत रद्द कराएगी। इसके साथ ही पुलिस बेउर तथा वकीलों को भी शिकंजे में लेगी जो ऐसे व्यक्तियों की जमानत में पैरवी करते हैं। संगठित अप-राध को कोई भी कीमत पर पनपने नहीं दिया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close