Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatna

विकास के साथ शांति के लिए ज्ञान होता अहम : सविता

मधुबनी लिटरेचर फेस्टिवल का 24 से 27 दिसंबर को राजनगर व सौराठ में आयोजन होना है...../....

मधुबनी | मधुबनी लिटरेचर फेस्टिवल का 24 से 27 दिसंबर को राजनगर व सौराठ में आयोजन होना है। इसकी जानकारी देते हुए फेस्टिवल के संयोजक सविता झा खान ने बताया कि फेस्टिवल में गांधी ग्राम संवाद, विमर्श सत्र, स्त्री दलान, चिनवार, मरवा, पसाहनि, सिनेमा पदार्पण, चित्रकला कार्यशाला, बाल नाटक कार्यशाला, वक्तव्य, खान-पीन, लाइव प्रदर्शन, विरासत यात्रा, कविता आ साहित्य, फोटोग्राफी कार्यशाला, सांस्कृतिक प्रतियोगिता, रैप सहित अन्य गतिविधियों को शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि मिथिला की कला, संस्कृति और दर्शन को समझना होगा। इसकी महत्ता से अवगत होकर ही इसके संरक्षण के दिशा में कारगर प्रयास संभव होगा। शांति और विकास के लिए ज्ञान अहम होता है। ज्ञान के बल पर ही बड़ी से बड़ी समस्याओं के समाधान के साथ कामयाबी हासिल किया जा सकता है। मिथिला के लोगों को विरासत में मिली कला, संस्कृति तथा पूर्वजों से प्राप्त संस्कार, विवेक के रास्ते अपने समाज का समुचित विकास कर सकते हैं। अपने संस्कार और संस्कृति को विकसित करने के दिशा में मधुबनी लिटरेचर फेस्टिवल का आयोजन निश्चित रूप से मिथिला की विकासशील संस्कृति के विविध आयाम से रूबरू कराएगा। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के दिशा में फेस्टिवल पूरी तरह प्लास्टिक मुक्त होगा। खान-पान से लेकर अन्य मायनों में भी प्लास्टिक का प्रयोग से बचा जाएगा। मौके पर विनयानंद झा, नमदेश्वर मिश्र हेम, कैलाश भारद्वाज, आनंद कुमार झा, अविनाश कर्ण, सुबोध कुमार झा, रामबाबू चौधरी सहित अन्य मौजूद थे ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close