Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatna

वैश्य समाज शिक्षा पर दे ध्यान,तभी होगा विकास….

वैश्य समाज को जनसंख्या के आधार पर राजनीतिक भागीदारी की आवश्यकता है। समाज में कई मंच है लेकिन वैश्य समाज को एक मंच पर लाने व संगठित होकर राजनीति में अपनी भागीदारी बढ़ाने के...../.......

मधुबनी | वैश्य समाज को जनसंख्या के आधार पर राजनीतिक भागीदारी की आवश्यकता है। समाज में कई मंच है लेकिन वैश्य समाज को एक मंच पर लाने व संगठित होकर राजनीति में अपनी भागीदारी बढ़ाने के लिए जागृत किया जा रहा है। उक्त बातें वैश्य महासभा के महिला सेल के राष्ट्रीय अध्यक्ष कंचन गुप्ता ने बेनीपट्टी प्रखंड के पाली गांव में आयोजित प्रखंड स्तरीय वैश्य अभिनन्दन समारोह में कहीं। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज बेटियों को शिक्षित करें। बेटियों के शिक्षित होने से पूरा समाज शिक्षित होता है। दहेज प्रथा कलंक है। अपने समाज से इस कुरीतियों को समाप्त करें। वैश्य समाज की 22 से 25 प्रतिशत जनसंख्या है, लेकिन जनसंख्या के आधार पर राजनीतिक भागीदारी नहीं मिल पा रही है।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि विधान पार्षद व भाजपा नेता सुमन कुमार महासेठ ने कहा कि वैश्य समाज में सामाजिक चेतना का अभाव है। वैश्य समाज को राजनीतिक हिस्सेदारी को लेकर जागरूक होना पड़ेगा। वैश्य समाज देने का काम किया है। कोई भी जिला नहीं है जहां वैश्य समाज के लोग अपनी संपति का दान देकर स्कूल कॉलेज व अन्य संस्था के लिए नहीं किया है। वैश्य समाज को राजनीति में अपनी भागीदारी के लिए संगठित होना है। वैश्य समाज के उचित स्थान दिए जाने की आवश्यकता है। दहेज लेना व देना दोनों अपराध है। समाज में शिक्षा जरूरी है। सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के लिए वैश्य समाज निरंतर कार्य कर रही है। हरेक क्षेत्र में वैश्य समाज बढ़ चढ़कर काम किया है। साथ ही समाज के विकास के लिए जो कार्य किया है वह बेमिसाल है। वैश्य समाज का बहुत बड़ा वर्ग राजनीतिक रूप से उपेक्षित हो रहा है। इस अवसर पर वैश्य महासभा के जिलाध्यक्ष दोरिक पूर्वे ने कहा कि वैश्य समाज के युवकों को रोटी व बेटी के संबंध में लाने के लिए संगठन व्यापक स्तर पर कार्य कर रही है। सामाजिक कुरीतियों को समाप्त करने एवं राजनीति में भागीदारी सुनिश्चित करने को लेकर समाज को जागरूक किया जा रहा है। वैश्य समाज को राजनीति में जनसंख्या के आधार पर जो हिस्सेदारी मिलनी चाहिए वह नहीं मिल रहा है। समाज में शिक्षा की अलख जगाने, बेटियों को शिक्षा से जोड़ने सहित अन्य बिन्दुओं पर कार्य करने की जरूरत है।

अभिनंदन समारोह में अधिवक्ता दशरथ बेयार प्रियदर्शी, प्रो. लालबाबू साह, प्रदेश उपाध्यक्ष वेदानंद साह, बालकृष्ण साह, शंकर कुमार सुमन, अरूण साह, गौड़ीशंकर नायक, धर्मेन्द्र साह, लक्ष्मण महासेठ, प्रो. लक्ष्मी साह, सहित अन्य लोगों ने विचार प्रकट किए। आगत अतिथि को पाग दोपटा से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रो. लालबाबू साह ने की ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close