Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatna

दिव्यांगों के लिए संचालित बुनियाद केंद्र को भवन तक नसीब नहीं….

करीब 45 लाख आबादी वाले जिले में दिव्यांगों की संख्या करीब दो लाख है। इसमें से करीब एक लाख नाबालिग दिव्यांगों को सरकार की योजनाओं का समुचित लाभ नहीं मिल रहा है...../....

मधुबनी | करीब 45 लाख आबादी वाले जिले में दिव्यांगों की संख्या करीब दो लाख है। इसमें से करीब एक लाख नाबालिग दिव्यांगों को सरकार की योजनाओं का समुचित लाभ नहीं मिल रहा है। दिव्यांगों के लिए विविध सुविधा प्रदान करने वाले बुनियाद केंद्र का जिला मुख्यालय में अपना भवन नहीं हो सका है। स्थानीय रसूल कॉलोनी भौआड़ा में एक भाड़े के भवन में केन्द्र का संचालन किया जा रहा है। आज विश्व दिव्यांग दिवस पर इस बुनियाद केंद्र पर दिव्यांगों के बीच चित्रकला सहित अन्य प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी।

शहर की एक दिव्यांग माया कुमारी ने बताया कि उन्हें दो वर्ष पूर्व सरकार द्वारा ढाई हजार रुपये का सहयोग मिला। इसके बाद से अबतक कोई सहयोग, सुविधा नहीं मिल रही है। एक दिव्यांग मनोहर कुमार ने बताया कि अस्पताल से दिव्यांग प्रमाणपत्र बनाने के अलावा अन्य योजनाओं के लाभ के लिए विभिन्न कार्यालयों में दिव्यांगों के साथ भेदभाव किया जाता है। बुनियाद केंद्र द्वारा संचालित योजनाएं

वृद्ध, विधवा एवं दिव्यांगजनों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जिले में बुनियाद केंद्र का संचालन हो रहा है। रसूल कॉलोनी भौआड़ा में संचालित बुनियाद केंद्र पर वृद्ध, विधवा एवं दिव्यांगों को स्वास्थ्य संबंधित सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित बुनियादी केंद्र में उपलब्ध सुविधा के लिए आधार कार्ड से रजिस्ट्रेशन कराया जाता है। रजिस्ट्रेशन के बाद बुनियाद केंद्र पर निश्शुल्क मिलेगी वाली सुविधाओं में वाक एवं श्रवण संबंधित जांच, निदान एवं परामर्श, नेत्र जांच एवं उपचार, सलाह, कृत्रिम अंग एवं सहायक उपकरण संबंधित सुविधाएं, रेफरल सेवाएं, फिजियोथेरेपी की सुविधा, सामाजिक सुरक्षा पेंशन एवं सामाजिक सुरक्षा के अन्य कार्यक्रमों से संबंधित योजनाओं का लाभ प्राप्त करने हेतु मार्गदर्शन एवं निदान। बुनियाद केंद्र द्वारा दिव्यांगों को स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए संजीवनी सेवा वाहन का संचालन किया जा रहा है। मालूम हो कि जयनगर, फुलपरास, झंझारपुर तथा बेनीपट्टी अनुमंडल मुख्यालय में बुनियाद केंद्र का निर्माण करायी गई है। लेकिन केंद्र का संचालन शुरू नहीं हो सका है। निश्शक्तजनों के लिए अनेक लाभकारी योजनाएं

सामाजिक सुरक्षा कोषांग दिव्यांगों के लिए अनेक योजनाएं चलाई जा रही हैं। इन योजनाओं में बुजुर्गों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना, बुजुर्गों के लिए समेकित कार्यक्रम, अन्नपूर्णा योजना, मुख्यमंत्री साम‌र्थ्य योजना, निश्शक्त छात्रों के लिए छात्रवृत्ति, निश्शक्तजन शिक्षा ऋण योजना, स्वरोजगार योजना, निश्शक्तों के कल्याण और सशक्तीकरण से संबंधित सभी योजनाओं का कार्यान्वयन के अलावा विभिन्न योजनाएं चलाकर दिव्यांगों को लाभान्वित किया जा रहा है। सलेमपुर में संवाद कार्यक्रम आज

विश्व विकलांग दिवस पर संभव ट्रस्ट के तत्वावधान में पंडौल प्रखंड के सलेमपुर पंचायत भवन पर दिव्यांगजन, जनप्रतिनिधि, प्रशासनिक पदाधिकारी के साथ संवाद कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसकी जानकारी देते हुए ट्रस्ट के संस्थापक मुकेश पंजियार ने बताया कि कार्यक्रम में केंद्र व राज्य सरकार द्वारा दिव्यांगों के लिए उपलब्ध सेवा, सुरक्षा, सम्मान, अधिकार, आरक्षण सहित अन्य योजनाओं के प्रति जागरूक किया जाएगा। चलंत न्यायालय दिव्यांगों के लिए लाभकारी

मालूम हो कि इस वर्ष माह नवंबर में जिले के विभिन्न प्रखंडों में दिव्यांगों के लिए आयोजित जांच कैंप और चलंत न्यायालय दिव्यागों के लिए काफी लाभकारी साबित हुआ। इस दौरान करीब पांच हजार दिव्यांगों को प्रमाण पत्र बनाया गया। वहीं बड़ी संख्या में दिव्यांगों के अधिकार संबंधी मामलों का निष्पादन किया गया ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close