Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatna

घोघरडीहा- पीएचसी के लिपिक को जमीन निगल गया या आसमान ??

मधुबनी | घोघरडीहा | प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के लिपिक प्रखंड के बेलहा गांव निवासी शम्भू कुमार राय का पता लगाने में पुलिस अभी भी नाकाम है। बता दें कि एक सप्ताह पूर्व भैरवस्थान थाना क्षेत्र के सामिया ढलान से गायब घोघरडीहा पीएचसी के लिपिक शम्भू कुमार राय का कोई सुराग नहीं मिला है। जिससे शम्भू के परिजनों का चिंता बढ़ गई है। उसके पत्नी और बच्चे का रो-रो कर बुरा हाल है। शम्भू की पत्नी रोजी कुमारी से पूछने पर बताया कि पिछले 11 तारीख को पति के मोबाईल पर दिन के करीब साढ़े दस बजे किसी का फोन आया था जिसे उन्होंने 11 बजे घर से निकलने की बात बताए थे। खाना खाने के बाद करीब 11 बजे वे लैपटॉप वाला बैग लेकर मोटरसाइकिल से ऑफिस के लिए निकल गए। शाम छः बजे तक घर नही लौटने पर उन्हें फोन लगाया तो उनका मोबाईल स्वीच ऑफ था। रात के 11 बजे तक फोन लगाता रहा लेकिन उनका मोबाईल स्वीच ऑफ ही मिल रहा था। दूसरे दिन रोजी ने मायके में अपने भाई को फोन पर पति के घर नही लौटने की बात बताकर उसे पता लगाने को कहा। 12 नवंबर को शम्भू के साले अपने रिश्तेदारों व परिचितों से शम्भू के बारे में पता लगाते रहे।13 नवंबर को शम्भू का मोटरसाइकिल लावारिस अवस्था में एनएच 57 सड़क सामिया ढलान के निकट से भैरवस्थान थाना पुलिस ने बरामद किया। पुलिस ने मोटरसाइकिल के डिक्की से बरामद कागजात के आधार पर शम्भू के परिजनों को सूचित किया। जिसके बाद शम्भू के घर में पत्नी बच्चे सहित पूरे परिवार कोई अप्रिय घटना के भय से चिंतित हो गया। 15 नवंबर को शम्भू के पत्नी रोजी कुमारी के लिखित बयान पर थाना में प्राथमिकी दर्ज हुई। लेकिन पुलिस अब तक शम्भू का कोई सुराग लगाने में कामयाब नहीं हुआ। शम्भू की पत्नी रोजी के अनुसार शम्भू को घर से निकलने के पूर्व तीन बार कॉल आया था। जिसमे दो बार उसने कॉल रिसीव नही किया। तीसरी बार कॉल आने पर बताया कि मैं 11 बजे घर से निकल रहा हू। पुलिस अगर शीघ्रता से उस कॉल का डिटेल निकलवा कर वैज्ञानिक तरीके से जांच को आगे बढ़ाए तो शम्भू के सकुशल बरामदगी में अहम कड़ी साबित हो सकता है। इस बाबत भैरवस्थान थानाध्यक्ष ने अनुसंधान जारी रहने की बात बताते है। लेकिन सात दिनों से गायब परिजनों का सब्र का बांध टूट रहा है। वे किसी अनहोनी की आंशका से चिंताओ की अथाह सागर में डूब गए है ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close