Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatna

शिक्षकों ने बीआरसी में ताला जड़ दिया धरना….

मधुबनी | सरकारी निर्देश के बाद भी पर्व के मौके पर वेतन नहीं मिलने से आक्रोशित शिक्षकों ने प्रखंड स्थित बीआरसी कार्यालय के आगे धरना दिया। कार्यालय मुख्य गेट में तालाबंदी कर जमे रहे। शाम तक शिक्षक अपनी मांगों के समर्थन में नारे लगाते रहे। धरना का नेतृत्व बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षा संघ के अंचल मंत्री विनय कुमार एवं बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ झंझारपुर इकाई के प्रखण्ड अध्यक्ष मोहम्मद मुर्तुजा कर रहे थे। उक्त नेताद्वय की अध्यक्षता में धरना स्थल पर सभा हुई। जिसे संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि बीईओ महेश प्रसाद द्वारा वेतन विपत्र को जिला स्थापना कार्यालय में अब तक जमा नहीं किया गया। जिस कारण दीवाली, छठ जैसे मौके पर शिक्षकों को वेतन नहीं मिल सका। इन्होंने बताया कि शिक्षकों के विभिन्न बकाया अंतर वेतन विपत्र भी जिला नहीं भेजा गया है। प्रशिक्षित हुए शिक्षकों का वेतन निर्धारण कैम्प के माध्यम से कराने, विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए बीआरसी में बीईओ के बैठने का तिथि निर्धारित करने सहित चार मांग पत्र दिया गया। देर शाम तक बीईओ प्रखण्ड नहीं पहुचे। जिसके बाद निर्णय लिया गया कि मांग पत्र जिला स्थापना को देकर यहां की अराजक स्थिति की जानकारी दी जाय। धरना कार्यक्रम में बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षा संघ के अध्यक्ष कमलेश झा का नही शामिल होना चर्चा का विषय रहा। क्योंकि बिहार राज्य नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ (मूल) ने शिक्षकों के इस धरने में शामिल न होने की घोषणा कर सम्पूर्ण शिक्षक एकता पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया था। इस संघ के घोषणा पत्र में धरना दे रहे एक संघ के अध्यक्ष का हस्ताक्षर भी था। धरना कार्यक्रम को ललित नारायण ललन, अमरेश यादव, धीरेंद्र कुमार, सुनील पासवान, प्रेम चंद्र पासवान, मोहम्मद रिजउद्दीन, प्रफ्फुल कुमार सिंह, वीरेंद्र कुमार, ज्योति कुमार झा, राजेश कुमार, आलोक रंजन, गणेश ठाकुर, नूर इकबाल, अरुण कुमार झा सहित अन्य ने संबोधित किया। झंझारपुर के प्रभारी बीईओ महेश प्रसाद ने कहा कि मुझे धरना प्रदर्शन की जानकारी नहीं थी। कई प्रखण्ड के प्रभार में है। वेतन विपत्र जो झंझारपुर बीआरपी द्वारा मुझे दिया गया वह त्रुटि पूर्ण है। सुधार कर वेतन विपत्र आने के बाद ही जिला को दिया जाएगा। जो बातें बातचीत से हल होगी उसके लिए धरना प्रदर्शन करना सही नहीं है ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close