Big NewsBreaking NewsMadhubaniPatnaViral News

चार हजार छात्रों का नहीं हो रहा सत्यापन…..

मधुबनी | जिले के विभिन्न संस्थानों की लापरवाही के कारण हजारों छात्रों को इसका लाभ नहीं मिल सका है। इन संस्थानों द्वारा ऑनलाइन जांच नहीं किये जाने के कारण पोस्ट मैट्रिक (प्रवेशिकोत्तर) छात्रों को इसका लाभ नहीं मिल सका है। जिले के ऐसे 75 शैक्षणिक संस्थान हैं, जहां के छात्रों का वेरिफेकशन नहीं हो सका है। इन संस्थानों में लगभग चार हजार ऐसे छात्र हैं, जिनका सत्यापन नहीं हो रहा है। इसे विभाग ने गंभीरता से लिया है। सभी छात्रों का वेरिफेकशन 15 नवंबर तक कर लिया जाना है। इसके लिए शिक्षा विभाग ने हर संस्थानों को नोटिस भेजा है और आग्रह किया है कि हर साल में समय पर संस्थानों द्वारा जांच करा लेना है। वर्ष 2018-19 में पिछड़ा वर्ग एवं अतिपिछड़ा वर्ग के साथ ही अनुसूचित जाति व जनजाति के छात्रों को प्रवेशिकोत्तर छात्रवृत्ति दिया जाना है। इसके लिए संबंधित संस्थानों को ऑनलाइन जमा कराये गये आवेदन को वेरिफिकेशन कर समग्र शिक्षा अभियान कार्यालय में जमा कराया जाना है। लेकिन इसमें उदासीनता बरती जा रही है। इसकारण इन छात्रों की छात्रवृत्ति का निर्णय नहीं हो पा रहा है। हालांकि राज्य स्तर पर ऑनलाइन वेरिफेकशन में मधुबनी जिला सातवें स्थान पर है। यह जिला नंबर वन हो सकता है जिसमें इन संस्थानों की उदासीनता बाधक बना हुआ है। अधिकारियों ने इसे नंबर वन बनाने की दिशा में पहल शुरू कर दी है ||

NBL Madhubani

"है जो जमीर जालिम उसे बेनकाब कर दे,ये खामोशी तोड़ दे तू इंकलाब कर दे"

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

बिहार की खबरों से रहे अपडेट

Close